गुरुवार, 24 सितंबर 2015

'स्टार्टअप इंडिया' की घोषणा

NDTV--India "स्टार्ट अप इंडिया " का आलेख 

स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया' : रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए पीएम की नई पहल


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 69वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में शनिवार को एक नए अभियान 'स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया' की घोषणा की। देशभर में रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए यह उनकी नई पहल है। साथ ही उन्होंने एकता को देश की पूंजी बताते हुए जातिवाद के जहर और सम्प्रदायवाद के जुनून और भ्रष्टाचार को नहीं पनपने देने पर जोर दिया।

पीएम मोदी ने युवाशक्ति के लिए 'स्टार्टअप इंडिया' की घोषणा करते हुए कहा कि स्टार्टअप देश को नया आयाम दे सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा, 'आने वाले दिनों में स्टार्टअप इंडिया, देश के भविष्य के लिए स्टैंडअप इंडिया होगा। हम स्टार्टअप के मामले में पहले नबंर पर आ सकते हैं।' उन्होंने कहा कि यह बीआर अंबेडकर को इस वर्ष उनकी 125वीं जयंती पर समर्पित होगा।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में जो उद्योग अधिक से अधिक रोजगार देने का काम करेंगे, उनके लिए अलग से आर्थिक पैकेज होगा।

उन्होंने सवा सौ करोड़ भारतवासियों की सरलता और भाईचारे को राष्ट्र की ताकत बताया। इसके साथ ही उद्यमिता को प्रोत्साहित करने, किसानों के कल्याण, भ्रष्टाचार एवं सम्प्रदायवाद से निपटने के उपायों पर चर्चा की।

प्रधानमंत्री ने वन रैंक, वन पेंशन का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार ने इसे सैद्धांतिक रूप में स्वीकार कर लिया है और इस संबंध में चल रही बातचीत के सुखद परिणाम की उम्मीद है।

पीएम मोदी ने किसानों के कल्याण को संस्थागत रूप देने के लिए कहा कि कृषि मंत्रालय का नाम अब कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय होगा। हालांकि प्रधानमंत्री ने संसद में कामकाज बाधित होने के बारे में कुछ नहीं कहा, जिस पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में चिंता जताई थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में सवा लाख बैंकों की शाखाएं हैं और बैंकों की हर शाखा आदिवासी क्षेत्रों में कम से कम एक आदिवासी युवा को, दलित क्षेत्र में कम से कम एक दलित को उद्यम के लिए ऋण दें। साथ ही महिलाओं को उद्यम लगाने में मदद करें।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें